-->

Child labour in hindi – बाल मजदूरी पर हिंदी में निबंध

आज हमने बाल मजदूरी (Child labour in hindi) पर हिंदी में क्रमशः 100 शब्दों, 150 शब्दों, 250 शब्दों, 350 शब्दों और 600 शब्दों का निबंध लिखा है। हम आशा करते हैं कि हमारे द्वारा लिखे गए ये सभी निबंध आपको अवश्य पसंद आएंगे।

बाल मजदूरी पर हिंदी में निबंध / Essay on child labour in hindi / Child labour in hindi (100 words)

बाल मजदूरी एक बड़ी समस्या बन चुकी है जो दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। बाल मजदूरी अधिकतर विकासशील देशों में होती है। विकासशील देशों में गरीबी के कारण लोग अपनी आजीविका ठीक प्रकार से नहीं चला पाते हैं जिसके कारण वे अपने बच्चों से भी मजदूरी कराते हैं। 



बच्चों से मजदूरी कराने से उनका बौद्धिक विकास उचित प्रकार से नहीं हो पाता है। इसके कारण वे बच्चे अन्य स्कूल जा रहे बच्चों से बौद्धिक स्तर पर पिछड़ जाते हैं। बच्चों को बाल मजदूरी से बचाने के लिए सरकार ने कई नियम बनाएं लेकिन अभी तक बाल मजदूरी को समाप्त नहीं किया जा सका है।

बाल मजदूरी पर हिंदी में निबंध / Essay on child labour in hindi / Child labour in hindi (150 words)

बाल मजदूरी का अर्थ है बच्चों से मजदूरी कराना। जो भी बच्चे 14 वर्ष से कम आयु के हैं और वे मजदूरी करते हैं तो उन्हें बाल मजदूर कहा जाता है। बाल मजदूरी किसी भी देश की उन्नति में बाधा उत्पन्न करती है। बाल मजदूरी के कारण बच्चे का बचपन कठिन संघर्ष से बीतता है और उसका मानसिक विकास भी भली-भांति नहीं हो पाता है।

बाल मजदूरी पर हिंदी में निबंध - Child labour in hindi
बाल मजदूरी पर हिंदी में निबंध - Child labour in hindi

बाल मजदूरी का प्रमुख कारण गरीबी है जो किसी बच्चे को बाल मजदूरी करने पर विवश कर देती है। इसके अलावा अभिभावकों में शिक्षा के महत्व के प्रति उदासीनता भी बाल मजदूरी के प्रमुख कारणों में से एक है। हालांकि, सरकार ने बाल मजदूरी को रोकने के लिए कई नियम भी बनाए हैं परंतु वे सभी नियम अभी तक अपना प्रभाव नहीं दिखा सके हैं। बाल मजदूरी को रोकने के लिए समाज को इसके प्रति जागरूक होना होगा और सरकार को इसे रोकने के लिए कठोर नियम बनाने होंगे तभी ये कुप्रथा समाप्त होगी।

बाल मजदूरी पर हिंदी में निबंध / Essay on child labour in hindi / Child labour in hindi (250 words)

बाल मजदूरी से तात्पर्य बच्चों से मजदूरी कराने से है। बच्चे जब अपने जीवन यापन के लिए बचपन में ही मजदूरी करने लगे तो इस प्रकार की मजदूरी को बाल मजदूरी कहा जाता है। बच्चों को यह मजदूरी उनकी इच्छा के विरुद्ध जाकर करनी पड़ती है। बच्चों द्वारा मजदूरी करने के कारण अनेक हैं परंतु सबसे बड़ा कारण गरीबी है। गरीबी के कारण उन्हें विवश होकर बचपन की आराम भरी जिंदगी को त्यागकर मजदूरी जैसा कठिन कार्य करना पड़ता है।

गरीबी के अलावा उन बच्चों के माता-पिता की नासमझी भी बाल मजदूरी का एक मुख्य कारण है। बाल मजदूरी कर रहे बच्चों के माता-पिता यह सोचते हैं कि जितना शीघ्र उनका बच्चा कमाने लगेगा उतना शीघ्र वह समझदार हो जाएगा। इसके अलावा वे यह भी सोचते हैं कि बच्चों को विद्यालय भेजना बेकार है। इस प्रकार की सोच ने भी बाल मजदूरी को बढ़ावा दिया है।



सरकार ने 6 वर्ष से लेकर 14 वर्ष तक के बच्चों के लिए मुफ्त शिक्षा का प्रावधान किया है ताकि बाल मजदूरी को समाप्त किया जा सके। कोई भी बच्चा पैसे के अभाव के कारण 14 वर्ष से पूर्व अपनी शिक्षा ना छोड़े। इसके अलावा 14 वर्ष से कम आयु के बच्चों से कार्य करवाने को एक दंडनीय अपराध घोषित किया है।

सरकार के इतने प्रयासों के पश्चात भी भारत में बाल मजदूरी की समस्या लगातार बढ़ती जा रही है। बाल मजदूरी के कारण बच्चों का संपूर्ण विकास नहीं हो पाता है और वे बौद्धिक स्तर पर पिछड़ जाते हैं। बाल मजदूरी को रोकने के लिए समाज का जागरूक होना अति आवश्यक है। अतः सरकार को बाल मजदूरी को रोकने के लिए नए कठोर नियम बनाने चाहिए।

बाल मजदूरी पर हिंदी में निबंध / Essay on child labour in hindi / Child labour in hindi (350 words)

बचपन का समय किसी भी मनुष्य के जीवन का सबसे अच्छा समय होता है। इसमें वह बिना किसी चिंता के अपने जीवन का भरपूर आनंद लेता है। खेलना कूदना, पढ़ना लिखना आदि चीजें वह अपनी बाल्यावस्था में सीखता है। यदि किसी बच्चे से उसकी बाल्यावस्था का आनंदपूर्ण समय छीन कर उसे मजदूरी करने के लिए विवश किया जाए तो इसे ही बाल मजदूरी कहते हैं।

बाल मजदूरी की अन्य परिभाषा यह भी हो सकती है कि जब कोई बच्चा किसी भी कारण से मजदूरी करता हो और उसकी आयु 14 वर्ष से कम हो तो इस प्रकार की मजदूरी को बाल मजदूरी कहा जाता है। बाल मजदूरी के कारण उस बच्चे को अनेक कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। इतना ही नहीं इसके अलावा वह बच्चा अन्य दूसरे पढ़ लिख रहे बच्चों से बौद्धिक स्तर पर भी पिछड़ जाता है। उस बच्चे के मानसिक विकास पर भी बाल मजदूरी का प्रभाव पड़ता है।

बाल मजदूरी का मुख्य कारण गरीबी है क्योंकि गरीब बच्चे ही बाल मजदूरी करते हैं। गरीबी के कारण उन्हें विवशतापूर्वक यह सब करना पड़ता है। इसके अलावा वे लोग भी बाल मजदूरी के लिए जिम्मेदार हैं जो इन बच्चों को काम पर रखते हैं। वे इन बच्चों को एक व्यस्क मजदूर की तुलना में कम वेतन देते हैं परंतु कार्य उतना ही कराते हैं। उनके इस प्रकार से लाभ कमाने के कारण भी बाल मजदूरी को बढ़ावा मिलता है। इसके अलावा बच्चों के माता-पिता का शिक्षा के महत्व को ना समझना भी बाल मजदूरी का एक प्रमुख कारण है। इन बच्चों के माता-पिता सोचते हैं कि उनके बच्चे जितना जल्दी कमाने लगेंगे उतनी जल्दी समझदार भी हो जाएंगे। शिक्षा आदि उनके लिए कोई मायने नहीं रखती है। ऐसी घटिया सोच ने भी बाल मजदूरी को बढ़ावा दिया है।

ऐसा नहीं है कि भारत सरकार ने बाल मजदूरी को रोकने के लिए कुछ नहीं करा। सरकार ने बाल मजदूरी को अपराध की श्रेणी में रखा है और 6 वर्ष से 14 वर्ष तक की आयु के बच्चों के लिए मुफ्त शिक्षा का प्रावधान भी किया है। हालांकि, सरकार के द्वारा किए गए प्रयास अभी तक विफल ही सिद्ध हुए हैं। सरकार को नए एवं कड़े कानून बनाने चाहिए जिससे बाल मजदूरी को पूरी तरह से समाप्त किया जा सके। सरकार के अलावा जनता को भी बाल मजदूरी के प्रति जागरूक होना होगा तभी इस बाल मजदूरी नामक लगातार बढ़ रही समस्या का अंत हो सकेगा।

बाल मजदूरी पर हिंदी में निबंध / Essay on child labour in hindi / Child labour in hindi (600 words)

प्रस्तावना

किसी भी व्यक्ति के जीवन में बाल्यावस्था का समय सबसे अच्छा होता है। बाल्यावस्था में व्यक्ति जीवन को बड़े अच्छे ढंग से जीता है। उसे किसी भी प्रकार की चिंता या भय नहीं होता है। इसके अलावा वह केवल खेल-कूद, पढ़ाई आदि चीजों में मग्न रहता है। यदि इस आनंदमय बाल्यावस्था को किसी मासूम बच्चे से छीन लिया जाए और उसे मजदूरी करने के लिए विवश किया जाए तो इस प्रकार की मजदूरी बाल मजदूरी कहलाती है।

बच्चों पर बाल मजदूरी का प्रभाव

बाल मजदूरी एक बहुत बड़ी सामाजिक समस्या बन चुकी है। छोटे बच्चों को कार्य करते प्रतिदिन शहरों एवं गांवों दोनों जगह देखा जा सकता है। होटलों, ढाबों, फैक्ट्रियों, कारखानों आदि में बच्चे मजदूरी करते दिखाई देते हैं। बाल मजदूरी ना केवल भविष्य में होने वाले देश के विकास को प्रभावित करती है बल्कि यह बाल मजदूरी करने वाले बच्चों के मानसिक एवं बौद्धिक विकास को भी प्रभावित करती है। बचपन की आयु सीखने की आयु होती है। यदि कोई बच्चा पढ़ने, खेलने आदि चीजों के स्थान पर मजदूरी करने पर विवश हो तो उसका मानसिक एवं बौद्धिक विकास उचित रूप से नहीं हो पाएगा और वह अन्य बच्चों की तुलना में पिछड़ जाएगा।

बाल मजदूरी के कारण

1. बाल मजदूरी का सबसे मुख्य कारण गरीबी है जो किसी बच्चे को बाल मजदूरी करने के लिए विवश कर देती है। गरीबी के कारण माता-पिता आजीविका चलाने में असमर्थ होते हैं जिसके कारण वे अपने बच्चों से भी मजदूरी करवाते हैं।

2. बाल मजदूरी करने वाले बच्चों को एक व्यस्क मजदूर की तुलना में कम वेतन दिया जाता है। यह भी बाल मजदूरी के बढ़ने का एक प्रमुख कारण है। कुछ फैक्ट्रियों, ढाबों आदि के मालिक अतिरिक्त लाभ कमाने के लिए इन बच्चों को कम वेतन पर अपने यहां काम दे देते हैं। इस प्रकार के लोग केवल अपने लाभ के लिए इन बच्चों के भविष्य से खिलवाड़ करते हैं और ये लोग भी बाल मजदूरी के बढ़ने का एक कारण है।

3. बाल मजदूरी करने वाले बच्चों के अभिभावकों का शिक्षा के महत्व को ना समझना भी बाल मजदूरी का एक कारण है। इस प्रकार के अभिभावक शिक्षा ग्रहण करने को केवल समय और पैसे की बर्बादी समझते हैं और उन्हें लगता है कि जितना जल्दी उनके बच्चे कमाने लगेंगे वे उतनी जल्दी ही समझदार एवं जिम्मेदार हो जाएंगे। इस प्रकार की सोच ने भी केवल बाल मजदूरी को बढ़ावा ही दिया है।

4. भारत सरकार द्वारा बाल मजदूरी को रोकने के लिए अनेक नियम तो बनाए गए परंतु वे सभी नियम बाल मजदूरी को रोकने में विफल रहे। सरकार के द्वारा बनाए गए नियमों में अनेक कमियां हैं जिसके कारण आज भी भारत में बाल मजदूरी हो रही है। भारत सरकार को बाल मजदूरी पर नए और कठोर से कठोर कानून बनाने चाहिए ताकि बाल मजदूरी को जल्दी से जल्दी समाप्त किया जा सके।

बाल मजदूरी को रोकने के लिए भारत सरकार द्वारा बनाए गए नियम

1. बाल श्रम (निषेध व विनियमन) अधिनियम, 1986- यह अधिनियम गुरुपाद स्वामी समिति की सिफारिश पर सन् 1986 में लागू किया गया जिसके तहत 14 वर्ष से कम आयु के बच्चों से मजदूरी करवाना एक दंडनीय अपराध की श्रेणी में आएगा।

2. निशुल्क एवं अनिवार्य बाल शिक्षा का अधिकार अधिनियम, 2009- इस अधिनियम को 4 अगस्त, 2009 को अधिनियमित किया गया था जिसके तहत 6 वर्ष से लेकर 14 वर्ष तक की आयु के बच्चों के लिए मुफ्त एवं अनिवार्य शिक्षा का प्रावधान किया गया।

इसके अलावा भारत सरकार ने बच्चों के लिए किशोर न्याय (बालकों की देखरेख और संरक्षण) अधिनियम, 2000 जैसे अधिनियम भी बनाएं।

उपसंहार

बाल मजदूरी को रोकने के लिए समाज और सरकार दोनों को एक साथ कार्य करने की आवश्यकता है। यदि आपके आसपास किसी फैक्ट्री या ढाबे आदि पर 14 वर्ष से कम आयु का कोई बच्चा काम करता दिखाई देता है तो आप इस बात की शिकायत नजदीकी पुलिस स्टेशन पर अवश्य करें। इस प्रकार आप बाल मजदूरी को रोकने में सरकार की सहायता कर सकते हैं और उस बच्चे के भविष्य को भी सुधारने में अपना योगदान दे सकते हैं।





दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं 

*Hindi Range * ने आपके लिए कुछ खास 🎁भेजा है
*नीचे दी गई ब्लू लाइन को क्लिक करें*🙏

👇👇👇👇