Skip to main content

तेनालीराम की कहानी: अंतिम इच्छा

एक बार की बात है, जब राजा कृष्णदेव राय की माता बहुत बीमार पड़ गई थी। कई बड़े वैद्यों द्वारा उनका इलाज कराया गया परंतु कोई भी वैद्य उनके स्वास्थ्य में सुधार ना ला सका। 



उनकी माता को अब समझ आ चुका था कि वे अब अधिक दिनों तक जीवित नहीं रह पाएंगी इसलिए उन्होंने राजा कृष्णदेव राय के समक्ष अपनी अंतिम इच्छा प्रकट करी। उन्होंने राजा कृष्णदेव राय से कहा कि उनका प्रिय फल आम है, इसलिए वे अपने मरने से पहले ब्राह्मणों को आम दान करना चाहती हैं।

तेनालीराम की कहानी: अंतिम इच्छा
तेनालीराम की कहानी: अंतिम इच्छा

कुछ दिन बीत जाने के बाद एक दिन राजा कृष्णदेव राय की माता की मृत्यु हो जाती है परंतु उनकी अंतिम इच्छा अभी भी शेष रहती है, जिसके कारण राजा कृष्णदेव राय बहुत परेशान हो गए और उन्होंने अपने दरबार में विद्वान ब्राह्मणों को समाधान निकालने के लिए बुलाया।

सर्वप्रथम ब्राह्मणों ने राजा की माता की मृत्यु पर शोक प्रकट किया और फिर उनसे कहा,"किसी की भी अंतिम इच्छा की पूर्ति करना अत्यंत आवश्यक होता है। यदि किसी की अंतिम इच्छा की पूर्ति ना की जाए, तो उसकी आत्मा सदैव प्रेत योनि में भटकती रहती है और कभी भी मुक्ति नहीं पाती है। अतः आपको अपनी माता की आत्मा की मुक्ति के लिए एक उपाय करना होगा।"


जब राजा कृष्णदेव राय ने उपाय पूछा तो ब्राह्मणों ने बताया कि आपकी माता अपनी अंतिम इच्छा में ब्राह्मणों को आम दान करना चाहती थी, इसीलिए आपको अपनी माता की पुण्यतिथि पर ब्राह्मणों को  सोने के आम दान करने होंगे। ऐसा करने से सीधा इसका फल आपकी माता को मिलेगा और उनकी मुक्ति का द्वार खुल जाएगा।



ब्राह्मणों की बात मानकर राजा कृष्णदेव राय ने उन्हें अपनी माता की पुण्यतिथि पर आमंत्रित किया। पुण्यतिथि के दिन उनकी अच्छे से आवभगत करी और अच्छा अच्छा भोजन खिलाने के पश्चात ब्राह्मणों को एक एक सोने का आम भी प्रदान किया।

जब इस बात की सूचना तेनालीराम को प्राप्त हुई तो वह ब्राह्मणों की चालाकी को तुरंत समझ गया और उसने उन्हें सबक सिखाने की एक योजना बनाई।

कुछ दिन बाद तेनालीराम ब्राह्मणों को निमंत्रण पत्र भेजता है, जिसमें लिखा होता है कि जब से उसे पता लगा है कि अंतिम इच्छा पूरी ना होने के कारण आत्मा प्रेत योनि में ही भटकती रहती है, तब से वह बहुत ही परेशान है क्योंकि उसकी माता की भी अंतिम इच्छा पूरी नहीं हो पाई थी और इसी कारण वह ब्राह्मणों को अपनी माता की पुण्यतिथि पर आमंत्रित करना चाहता है, जिससे उसकी माता की आत्मा को जल्दी से जल्दी मुक्ति मिल सके।


तेनाली राम का निमंत्रण पत्र मिलने पर ब्राह्मण सोचते हैं कि तेनालीराम भी राजा के दरबार में उच्च पद पर आसीन है और यहां से भी उन्हें काफी अच्छा धन प्राप्त हो सकता है, इसीलिए वे सभी तेनालीराम की माता की पुण्यतिथि पर उसके घर जाने का निश्चय कर लेते हैं।

तेनालीराम की माता की पुण्यतिथि पर सभी ब्राह्मण उसके घर पर पहुंच जाते हैं। वहां पहुंचकर उनका बड़ा आदर सत्कार किया जाता है और बहुत ही स्वादिष्ट भोजन परोसा जाता है। भोजन खाने के  पश्चात सभी ब्राह्मण दान मिलने की प्रतीक्षा करने लगते हैं। 

थोड़ी समय बाद वे देखते हैं कि तेनालीराम लोहे की सलाखें गरम कर रहा है। तेनालीराम से लोहे की सलाखों के बारे में पूछने पर वह कहता है,"मृत्यु के समय उसकी मां को फोड़ों के दर्द से बहुत पीड़ा हो रही थी। वे चाहती थी कि मैं उनकी गरम लोहे की सलाखों से सिकाई करूं ताकि उनका दर्द कुछ कम हो सके। मगर इससे पहले की मैं सिकाई कर पाता, वे मर चुकी थी। उनकी अंतिम इच्छा जो उस वक्त पूरी नहीं हो सकी थी, अब उसे पूरा करने के लिए मुझे भी आपके साथ वैसा ही करना पड़ेगा ताकि उनकी आत्मा को मुक्ति मिल सके।"


इतना सुनते ही सभी ब्राह्मण तिलमिला उठे और वहां से जाने के लिए उतावले हो गए। कुछ ब्राह्मण तेनालीराम से क्रोधित होकर बोलने लगे कि हम पर गरम सलाखें दागने पर तुम्हारी मां की आत्मा को मुक्ति कैसे मिल सकती है?

इसके उत्तर में तेनालीराम ने कहा कि ठीक वैसे ही, जैसे सोने के आम दान करने पर महाराज की माता को मुक्ति मिल सकती है। 

इतना कहते ही सभी ब्राह्मण तेनालीराम की बात का अर्थ समझ गए और उससे कहने लगे,"हमें क्षमा कर दो। हम सभी अपने-अपने सोने के आम तुम्हें दे देंगे बस तुम हमें यहां से जाने दो।"

तेनालीराम ने ब्राह्मणों की बात मानकर ऐसा ही किया मगर एक लालची ब्राह्मण ने इसकी सूचना राजा कृष्णदेव राय को दे दी। यह सुनकर राजा कृष्णदेव राय अत्यंत ही क्रोधित हुए और तेनालीराम को उनके समक्ष प्रस्तुत होने का आदेश दिया।


तेनालीराम जब राजा कृष्ण देव राय के समक्ष प्रस्तुत हुआ तो राजा कृष्णदेव राय ने तेनालीराम से क्रोधित स्वर में कहा,"तेनालीराम तुम से हमें ऐसी आशा ना थी। तुम इतने लालची हो गए कि तुमने ब्राह्मणों को दान में दिए गए सोने के आम उनसे ले लिए। यदि तुम्हें सोने के आम चाहिए थे, तो हमसे कहते, हम तुम्हें वैसे ही सोने के आम दे देते परंतु यह सब करने की क्या आवश्यकता थी?"

इसके उत्तर में तेनालीराम ने कहा,"महाराज, मुझे इन सोने के आमों का तनिक भी लालच नहीं है। मैंने यह सब ब्राह्मणों के लालच की प्रवृत्ति को रोकने के लिए किया। जब वे आपकी माता की मुक्ति के लिए उनकी पुण्यतिथि पर सोने के आम ग्रहण कर सकते हैं तो उसी प्रकार मेरी माता की मुक्ति के लिए उनकी पुण्यतिथि पर लोहे की गरम सलाखें झेलने में क्या परेशानी है?"

राजा कृष्णदेव राय तेनालीराम की बातों को भलीभांति समझ गए। उन्होंने पुण्यतिथि पर आए सभी ब्राह्मणों को अपने दरबार में बुलाया और उनसे भविष्य में ऐसा ना करने का वचन लिया।

Comments

  1. मुझे हिंदी कहानिया पढने में अछि लगाती है |और ये तेनालीराम की कहानी भी बहुत अच्छी थी
    https://likehindi.com/real-life-hindi-story/

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

Nadi ki atmakatha in hindi - नदी की आत्मकथा पर हिंदी में निबंध

मैं पहाड़ों में पैदा हुए नीर का एक स्रोत हूं। मेरी उत्पत्ति पहाड़ों में बर्फ पिघलने से हुई है। प्रकृति ने मुझे प्राणियों के उद्धार के लिए बनाया है। मेरा मुख्य कार्य जीवों को नीर की आपूर्ति करना है। मैं जहां भी बंजर भूमि से होकर बहती हूं, वहां मुझमें हरा-भरा बनाने की क्षमता है। पहाड़ों से बाहर निकलते समय, मेरा रूप बहुत छोटा होता है, लेकिन जैसे-जैसे मैं आगे बढ़ती हूं, मैं बड़ी होती जाती हूं और आखिरकार समुद्र में चली जाती हूं। लेकिन समुद्र में शामिल होने से पहले, मैं अपनी आसपास की जमीन को हरा-भरा कर देती हूं। इतना ही नहीं, इसके अलावा भी कई जीव मुझमें पनपते हैं और मुझमें रहते हैं और अपने जीवन का संचालन करते हैं। Nadi ki Atmakatha in Hindi समुद्र में मिलने से पहले और पहाड़ों से निकलने के बाद मुझे काफी मशक्कत करनी पड़ती है। मेरे सामने कई बाधाएँ आती हैं, लेकिन मैं उन बाधाओं का साहसपूर्वक सामना करके अपना काम पूरा करती हूँ। मेरे अवरोधक पदार्थ छोटे और बड़े कंकड़, पत्थर और चट्टान हैं, लेकिन मैं आसानी से उन्हें पार कर लेती हूं और अपना रास्ता खोज लेती हूं। यदि मेरे उपयोग की गणना की ज

फटी पुस्तक की आत्मकथा / Fati Pustak ki Atmakatha in Hindi

मैं एक फटी हुई पुस्तक हूं जो कभी बिल्कुल नई हुआ करती थी। जब मैं नई थी तब मुझे मेरा मालिक अच्छे से रखता था और मुझे पढ़ता भी था। मगर ज्यों-ज्यों मैं बड़ी होने लगी मेरे मालिक का ध्यान मुझमें से हटता गया और धीरे धीरे वह मेरी कदर करना छोड़ता गया।  Read also: Sikke ki atmakatha in hindi फटी पुस्तक की आत्मकथा मुझे सही ढंग से ना रखने की वजह से मेरा स्वरूप बिगड़ता गया और मेरी हालत खराब होती चली गई। इस प्रकार में जगह-जगह से फटने लगी और मेरे कई पन्ने भी निकलते चले गए। इसके साथ उन पन्नों का ज्ञान भी मुझमें से निकल गया और मैं पहले से कम ज्ञान को संरक्षित करने वाली पुस्तक बन गई। Read also: Bus ki atmakatha in hindi इसके लिए मैं अपने आप को जिम्मेदार बिल्कुल नहीं मानती क्योंकि मुझ में इतनी शक्ति नहीं है कि मैं अपने मालिक से यह कह सकूं कि वह मेरा अध्ययन करे। यदि मुझमें इतनी शक्ति होती तो मैं अपने मालिक से हर दिन मेरा दिन करने को कहती जिससे मेरे मालिक का मेरे प्रति आकर्षण हमेशा बना रहे। आज मेरे कई पन्ने पूर्णता निकल चुके हैं, कुछ फट चुके हैं और मेरा स्वरूप भी पहले की तरह आकर्षक न

पेड़ की आत्मकथा इन हिंदी - Ped ki Atmakatha in Hindi

दोस्तों, आज हमने एक पेड़ की आत्मकथा बताने का प्रयास किया है। मैं आशा करता हूं कि आपको एक पेड़ की आत्मकथा पसंद आएगी। Ped ki Atmakatha in Hindi मैं प्रकृति के द्वारा दिया गया एक अनमोल रत्न हूं जिस पर सभी जीवों का जीवन निर्भर करता है। मैं प्रकृति में सबसे अधिक महत्व रखता हूं और प्राकृतिक घटनाएं भी मुझसे जुड़ी होती हैं। चाहे बारिश ज्यादा हो या कम, सूखा पड़े या बाढ़ आए और यहां तक कि वायु प्रदूषण और ग्लोबल वार्मिंग का संबंध भी मुझसे है।  बचपन में मुझे ये सब जानकारी नहीं थी। अतः मेरे मन में इस बात का डर लगा रहता था कि कोई मुझे काट ना दे या फिर कुचल न दे। इस डर से में हमेशा सहमा-सहमा रहता था। मेरे मन में यह विचार भी आता था कि मैं और पेड़ो कि तरह बड़ा कब हूंगा और कब मेरी साखाएं भी और पेड़ो कि तरह विशाल होंगी। लेकिन जब मैं धीरे-धीरे बड़ा होने लगा तब मैं प्रकृति को समझने लगा और मेरा यह डर धीरे-धीरे खत्म होता गया। मुझमें पर्णहरित नामक पदार्थ पाया जाता है और इसी पदार्थ के कारण मेरा रंग हरा होता है। यह पदार्थ मुझे खाना बनाने में मदद करता है। यह पदार्थ कार्बन डाइऑक्साइड को ग्रहण करने म